Wednesday, April 25, 2012

Crops of Dalit farmer set on fire
PTI | 02:04 PM,Apr 24,2012
Muzaffarnagar (UP), Apr 24 (PTI) Crops of a Dalit farmer were allegedly set on fire by some members of an influential community, following a dispute between the two groups, police said today. The wheat crops of the farmer were burnt in Manpuri village under Gangoh police station of Saharanpur district yesterday, police said. A case under the Scheduled Caste and Scheduled Tribe (Prevention of Atrocities) Act was registered against the five accused who are absconding, they said.

Monday, April 23, 2012


Two booked for raping Dalit girl



BHANDARA: A rape case was filed against two youths from a backward class by the victim's mother at Lakhni police station on Saturday. The youths confessed to their guilt during interrogation and were booked under sections 376 and 3(1) (12) of Prevention of Atrocities on SC/ST Act of Indian Penal Code.
According to the complaint, the teenaged victim was raped by two youths in the jungle. The victim was also from Dalit community studying in a school in Lakhni. She was taken to the jungle of Kesalwada in Khutsawari, 10km from Lakhni, by Pramod alias Kalya Bawankule (22) and Kartik Borkar (19), both residents of Murmadi village.
The victim's mother said that the youths gave her some tablets to make her unconscious and raped her. They also took her pictures during the act and sent them to their friends via Bluetooth. The mother came to know of the obscene pictures after four months of the incident.
Assistant superintendent of police Dr Abhinav Deshmukh said, "Such incidents happen in rural areas but most cases are not reported due to fear of defamation. A similar incident occurred in Palora village in the jurisdiction of Adyal police station two months ago. The accused were arrested and are in jail," he said.


Monday, April 16, 2012

न्याय के लिए बच्चों संग भटक रही है दलित विधवा
    मध्यप्रदेश की भाजपा सरकार में दलितों के हित की अनदेखी की खबर अक्सर आती रहती है. रायसेन जिले के बेगमगंज में सामने आई एक घटना के मुताबिक साहूकार के आतंक से त्रस्त एक विधवा अपने बच्चों के साथ न्याय के लिए दर दर भटकने को मंजूर है. मगर पुलिस द्वारा उसकी कोई मदद नहीं की जा रही है. इससे दुखी महिला अपने दोनों बच्चों के साथ आत्महत्या जैसा कदम उठाने के लिए सोचने लगी है. 
बेगमगंज एसडीओपी के दरबार में अपनी गुहार लगाने पहुंची दलित विधवा क्रांतिबाई गोलनदास अपने दो मासूम बच्चों को लेकर पहुंची और अपने ऊपर हो रहे अत्याचार की बात बताया. एसडीओपी को दिए अपने आवेदन में महिला ने बताया कि उसके पति संजीव कुमार गोलनदास की पटाखे बनाते समय विस्फोट होने के कारण मौत हो गई थी. वह अपने दो बच्चों के साथ गुजर बसर करने के लिए स्कूल में एक हजार रु. महीने पर भोजन बनाती है. साहूकार बृजेश शर्मा द्वारा उससे मुफ्त में बेगार कराने का प्रयास किया जाता है, उसके द्वारा मना किए जाने के बाद उसके साथ अभद्र व्यवहार कर मारपीट की और सार्वजनिक नल से पानी भरने पर रोक लगा दी. पीडि़त महिला ने रिपोर्ट थाना गैरतगंज में 29 फरवरी को की, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई. पिछले दो माह से पुलिस से मदद की गुहार लगा रही दलित विधवा ने थक हार कर आखिकार अब अपना आवेदन एसडीओपी कार्यालय बेगमगंज में देते हुए सुनवाई नहीं होने पर बच्चों सहित खुद को खत्म करने की धमकी दी है. 
14 अप्रैल को रिलिज नहीं हो सकी ‘शूद्र’
समाज में जहर की तरह फैली जाति व्यवस्था के इतिहास और कालांतर में दलित जातियों पर होने वाले जुल्मों-सितम की कहानी कहती फिल्म ‘शूद्र’ 14 अप्रैल को रिलिज नहीं हो सकी. सेंसर बोर्ड द्वारा फिल्म के कई दृश्यों और डायलॉग पर आपत्ति जताने के बाद इसके रिलिज को टाल दिया गया है. अब यह फिल्म सेंसर बोर्ड की निगरानी में है. फिल्म पर गौर करने के लिए एक 12 सदस्यीय कमेटी का गठन किया गया है. इस बीच कुछ क्षत्रिय संगठनों द्वारा भी फिल्म का विरोध किए जाने की खबर मिली है. तो कुछ संगठनों द्वारा मोबाइल पर मैसेज भेजकर और फेसबुक पर भी फिल्म का विरोध किया जा रहा है.
 फिल्म के निर्माता-निर्देशक संजीव जयसवाल ने ‘दलित मत’ से बातचीत में कहा कि सेंसर बोर्ड को हमारे फिल्म के कुछ दृश्यों पर आपत्ति है. वह जानना चाहते हैं कि हमने जो दिखाया-बनाया है, उसे कहां से लिया गया है और उसका आधार क्या है. हमने सेंसर बोर्ड द्वारा मांगी गई हर जानकारी को मुहैया करा दिया है. संजीव ने सेंसर बोर्ड के नजरिए को साकारात्मक बताया और उम्मीद जताई कि फिल्म को जल्दी ही अनापत्ति प्रमाण पत्र भी मिल जाएगा. असल में सेंसर बोर्ड इस फिल्म को संवेदनशील मान रहा है. बोर्ड का कहना है कि चूकि फिल्म दो खास वर्गों के बारे में है और एक बड़े समुदाय को प्रभावित करता है इसलिए इसके हर पहलू पर ध्यान देना जरूरी है. सूत्रों के मुताबिक सेंसर बोर्ड की 12 सदस्यीय कमेटी में हर वर्ग के लोगों को शामिल किया गया है. दूसरी ओर अखिल भारतीय क्षत्रिय महासंघ के कोयंबटूर इकाई से भी फिल्म पर आपत्ति जताई गई है. इस संगठन ने फिल्म के निर्माता संजीव जयसवाल सहित कुछ मीडिया ग्रुपों को भी पत्र लिखकर आपत्ति जताई है. 
फिल्म के रिलिज तारीख को रोके जाने के बीच अच्छी खबर यह है कि इस फिल्म के निर्माण का माद्दा दिखाने के लिए 14 अप्रैल को संजीव जयसवाल को मुंबई में आयोजित एक भव्य समारोह में डॉ भीमराव अंबेडकर अवार्ड से सम्मानित किया गया. मुंबई में सायन स्थिति सन्मुक्खानंद हाल में आयोजित समारोह में कई अन्य फ़िल्मी हस्तियों व समाज के लिए उत्कृष्ट कार्य करने वाले लोगो को भी सम्मानित किया गया. इन मुख्य हस्तियों में मशहूर अभिनेत्री आशा पारेख, गायक कुमार शानू, गायिका अलका याज्ञनिक, निर्माता निर्देशक संजीव जयसवाल, अभिनेता अन्नू कपूर, चर्चित क्रिकेटर विनोद काम्बली व आई बी एन−7 के पराग छापेकर शामिल थे. संजीव को यह सम्मान बाबा साहब के दिए संदेश को प्रसारित करने और जातिवाद जैसे संवेदनशील मुद्दे को परदे पर उतारने जैसे साहसिक कदम के लिए दिया गया है. 

Sunday, April 15, 2012


Dalit man ends life, cops blamed



RAMESWARAM: Tension gripped Parthabanur near here on Friday when a 28-year-old dalit allegedly committed suicide by consuming poisonafter three police personnel reportedly assaulted him and his father when they had gone to lodge a complaint at a police station, police said.
Police said Balamurugan and his father had gone to lodge a complaint against a neighbour when they were allegedly insulted and assaulted on Friday.
Unable to bear the insult, the man allegedly committed suicide by consuming poison, police said.
As the news about his death spread, people picketed the police station and demanded action against head constables Paramasivam and Bose and assistant sub-inspector Chittan.
The crowd dispersed only after a case was registered against the three police personnel, sources added. agencies
Dalit teenager raped, killed



SITAPUR (UP): A 14-year-old dalit girl has been raped and killed allegedly by two persons, one of them a relative, in Imalia Sultanpur area here.
The deceased was forcibly kidnapped by Manoj and Rinku while she was sleeping with her mother outside their house in Kurka village yesterday, DSP Jitendra Srivastava said.
She was then raped and strangled to death by them, he said.
Manoj, who is a relative of the victim, has been arrested while the other accused is absconding.

Saturday, April 14, 2012

Dalit man commits suicide after alleged assault by police
PTI | 11:04 PM,Apr 13,2012
Rameswaram (TN), Apr 13 (PTI) Tension gripped Parthabanur near here when a 28-year-old dalit allegedly committed suicide by consuming poison after three police personnel reportedly assaulted him and his father when they had gone to lodge a complaint at a police station, police said today. Police said Balamurugan and his father had gone to lodge a complaint against a neighbour when they were allegedly insulted and assaulted yesterday. Unable to bear the insult, the man allegedly committed suicide by consuming poison, police said. As the news about his death spread, people picketed the police station and demanded action against Head Constables Paramasivam and Bose and Assistant sub-inspector Chittan. The crowd dispersed only after a case was registered against the three police personnel, sources added. 


India | Posted on Apr 14, 2012 at 03:15pm IST

UP: Dalit girl abducted, raped by teacher



Ballia: A 16-year-old dalit girl was allegedly abducted and raped by a primary school teacher in Ballia, police said on Saturday.


The incident took place on Friday at Narahi area. Medical examination of the girl, who was later rescued by police, has confirmed rape, SP Luv Kumar said.
An FIR was lodged against the absconding accused Anand Kumar Ram, he said, adding that the statement of the girl would be recorded in the court on Monday.

Monday, April 9, 2012


Minor dalit girl gangraped by three youth in Jhansi

09 Apr 2012, 04:02 PM



Jhansi (UP): A minor Dalit girl was allegedly abducted and gangraped by three youth here, police said.


The 16-year-old girl, a resident of Gudha Dugara village, was found in an unconscious state in an agricultural field three days ago in Todi Fatehpur area and her medical examination has confirmed rape, Jhansi SSP S P Tripathi said.

Her father today lodged an FIR against three youths of the same village, the SSP said. A hunt has been lodged to nab the youths who are absconding, he said. 



Source: http://post.jagran.com/minor-dalit-girl-gangraped-by-three-youth-in-jhansi-1333967563

Saturday, April 7, 2012


Dalits resent scrapping of quota in UP promotions


After the withdrawal of quota in departmental promotions, the Dalit employees’ organisations are gearing up for a big agitation against the Samajwadi Party government. They plan to launch their protest by organising a state level conference in the state capital this month.
The Arakshan Bachao Sangharsh Samiti (ABSS), an umbrella organisation of Dalit employees unions, has appealed its members to wear black armbands during duty hours to protest against the government’s move to withdraw reservations in departmental promotions. ABSS convenor Awadhesh Kumar Verma said on Friday that a conference of Dalit employees would be organised in Lucknow by the end of this month to chalk out a strategy for protecting the constitutional right of quota in promotions.
He said preparations for the joint conference were in full swing and its date would be announced very soon.
The National Federation of Scheduled Caste/Scheduled Tribes Employees led by Indian Justice Party leader Udit Raj has also called a meeting of Dalit employees’ organizations to take a decision on launching agitation against the state government.
On Friday, Udit Raj hit out at former Chief Minister and Bahujan Samaj Party president Mayawati for not legislating a law on quota in promotions, and leaving Dalit employees vulnerable to the condition.
“Instead of making a law, Mayawati deliberately opted to issue just an order effecting quota in promotions, which was set side by the Allahabad High Court. The High Court order is the basis of withdrawal of quota in promotions by the Samajwadi Party government,” he said. Udit Raj said the Dalit employees would fight at every level to protect their right.
Meanwhile, Dalit employees, who got weightage in promotions over general category and OBC employees, are likely to be removed from the senior posts. According to sources, the promotions blocked in most government departments due to litigation are likely to be given by organising meetings of departmental promotion committees (DPCs).
Students refuse meal cooked by dalits
TNN Apr 5, 2012, 11.01PM IST
HAZARIBAG: Nearly 500 students (both girls and boys), studying at the Pahar Middle School in Keredari block of Hazaribag district, boycotted the midday meal served to them on Wednesday as they were prepared by two dalit cooks.
Reports reaching the district headquarters on Thursday said the two new cooks - Anita Devi and Jitni Devi - both dalits, were selected during a general meeting of the Gram Shiksha Samiti on March 27. Tulsi Sao, the headmaster as well as the secretary of the managing committee, said, "At the meeting, 12 members of the samiti, including the panchayat samiti member Umera Khatun, were present. Khatun, along with the other members, approved of the appointments."
Dalit girl attempts suicide after rape
TNN Apr 5, 2012, 02.54AM IST
JAIPUR: Relatives of a rape victim had a harrowing time before the police finally lodged an FIR and recorded the girl's statement on Wednesday.
A 16-year-old Dalit girl was allegedly raped at Jasti ka Bagh village in Sikar district on Tuesday evening. Following the incident, the girl attempted suicide by setting herself on fire.

Tuesday, April 3, 2012

दलित, हुनर और उसकी कीमत
हमेशा से ये कहा जाता रहा है कि कोई काम छोटा या बड़ा नहीं होता. ये कहावत आज भी उतनी ही सच्ची साबित होती है जितनी पहिले थी. उदाहरण के लिए प्राचीन काल में नृत्य या अभिनय करने वाले लोगों को बड़ी घृणा कि दृष्टी से देखा जाता था. पर समय के साथ ही जैसे जैसे नृत्य और अभिनय कि कला ने अपनी पहुँच घर घर तक पहुचाई तो इन कलाओं का मूल्यांकन बढ़ गया. इसका असर ये हुआ कि जो नृत्य या अभिनय कुछ चंद कौड़ियों में होता था आज उसके लिए करोड़ों लुटाये जाते हैं. मेरे कहिने का अभिप्राय सिर्फ इतना है कि हमारा समाज विभिन्न कलाओं का जन्मदाता है पर हम समय के साथ उन कलाओं का स्तर नहीं उठा सके जिसके कारण हमारे हुनर कि कीमत नहीं बढ़ सकी और हम सर्व गुण संपन्न होने के बावजूद गरीबी का जीवन जीते रहे हैं. 

आज हमें जरूरत है अपनी उन सभी कलाओं और हुनर को और ज्यादा निखारने का, उनको विश्व स्तर पर पहुँचाने का. ये काम हमारे समाज के सभी लोग भले ही न कर सकें लेकिन हमारे समाज के धनाड्य वर्ग का ये कर्त्तव्य बनता है कि वे अपनी व्यस्त जिंदगी में से कुछ समय निकाल कर अपने उन गरीब साथियों कि मदद कर सकते हैं जो उतने सक्षम नहीं हैं. मैं अपने साथ कुछ ऐसे ही साथियों का सहयोग चाहता हूँ जो  इन विचारों से सहमत हैं. मैं एक ऐसा स्वयमसेवी संगठन बनाना चाहता हूँ जो स्व पोषित हो और निःस्वार्थ भाव के साथ गठित हो. इस संगठन का कोई राजनीतिकरण न हो और न ही हम किसी जाति या धर्म विशेष के विरुध्द न हो. मेरा उद्देश्य अपने समाज को सिर्फ आगे ले जाना है बिना किसी का विरोध किये. संभव है कि ये बात किसी को शायद पसंद ना आये पर हमें अपने बाबा साहेब अम्बेडकर के इन्ही वाक्यों को अनुसरित करना है जो उन्होंने सिखाया था. 
"दलित युवाओं को मेरा पैगाम है की एक तो वे शिक्षा और बुद्धि में किसी से कम न रहें, दुसरे एशो-आराम में न पड़कर समाज नेतृत्व करें. तीसरे, समाज के प्रति अपनी जिम्मेदारी संभालें तथा समाज को जागृत और संगठित कर उसकी सच्ची सेवा करें."
अगर आप मेरे साथ है तो कृपया अपनी टिप्पणी जरूर दें. अगर आप मेरा साथ सक्रिय रूप से न दे सकें तो भी, अपना पक्ष तो इस ब्लॉग के माध्यम से तो रख ही सकते हैं. मुझे आपके समर्थन की ही जरूरत है. उम्मीद करता हूँ मुझे निराशा नहीं होगी.
                                                                                                                                                                                                                                   
                                                                                                                     ---------------- ब्लॉग लेखक 

दलित उद्यमिता का संकल्प


महाराष्ट्र के सांगली से लगभग 40 किलोमीटर की दूरी पर कावधे महान्का ताल्लुका में देवानंद लोंधे का हिंगन गांव है. वह लंबे समय तक अपने गांव से बाहर रहे. कई वर्षों तक देश से भी बाहर रहे. अच्छी नौकरी थी, लेकिन उसके बावजूद दिल में तड़प हमेशा अपने गांव लौटने की बनी रही. अपने गांव के बेरोज़गार परिवारों को रोज़गार कैसे मुहैया कराया जाए, वह हमेशा यही सोचते रहे. जब परिवार में पैसा आता है तो उसका जीवन स्तर सुधरता है, बच्चों को अच्छी शिक्षा मिलती है. जिस गांव में बच्चों को अच्छी शिक्षा मिलेगी, उस गांव की उन्नति को कोई रोक नहीं सकता. यह लोंधे की कल्पना थी, उस समय, जब वह विद्यार्थी जीवन में थे. 


समय बीता और महज़ दो साल पहले इसी गांव में लोंधे ने अपनी दस्ताने की एक यूनिट लगाई. जहां उनकी दस्ताने की यूनिट है, पहले वहां कपड़े का एक कारखाना हुआ करता था, जो बाद में बंद हो गया. इस पचास हज़ार स्न्वायर फीट ज़मीन को देवानंद ने ख़रीद तो लिया, लेकिन उस समय तक वह यह तय नहीं कर पाए थे कि गांव में ली गई इस ज़मीन को कैसे इस्तेमाल करना है. कपड़े का कारखाना बंद होने के बाद गांव की अर्थव्यवस्था निश्चित रूप से प्रभावित हुई थी. इसलिए लोंधे ने ज़मीन लेने के साथ ही यह तय कर लिया कि वह कोई ऐसा काम करेंगे, जिसमें उन्हें मुना़फा भले ही कम मिले, लेकिन उससे गांव के अधिक से अधिक लोगों को रोज़गार मिलना चाहिए.


चूंकि देवानंद लोंधे एक दलित परिवार से संबंध रखते हैं, इसलिए उन्होंने अपने आसपास भेदभाव और ग़रीबी को क़रीब से देखा है. लोंधे के शब्दों में, दलितों के साथ होने वाले भेदभाव का एक ही हल है कि उन्हें आर्थिक रूप से सक्षम बनाया जाए. उनकी उपेक्षा दलित होने की वजह से कम ग़रीबी की वजह से अधिक होती है. लोंधे मानते हैं कि समाज में अब उनके साथ भेदभाव नहीं है. यदि कोई करने की सोचे तो उसे संयम के साथ सही जवाब देने में वह भी सक्षम हैं. अधिक से अधिक गांव वालों को अपने साथ जोड़ने की मंशा लेकर हिंगन गांव में पायोद इंडस्ट्रीज बनी. हाथों के लिए दस्ताने का काम शुरू हुआ. मशीनें चीन से लाई गईं. मशीनें लाते समय इस बात का विशेष ध्यान रखा गया कि उनसे कम से कम काम करना पड़े, अधिक से अधिक काम हाथों से हो. इस तरह गांव में एक साथ डेढ़ सौ लोगों के लिए रोज़गार की व्यवस्था पायोद इंडस्ट्रीज की वजह से हुई. इसमें स़िर्फ पांच फीसदी पुरुष रखे गए, बाक़ी सभी काम महिलाएं देखती हैं.


इसके पीछे भी लोंधे की दूरदर्शिता काम कर रही थी. उनके अनुसार, पुरुष का पैसा स़िर्फ पुरुष के लिए होता है. उस पर मालिकाना हक पुरुष का होता है, लेकिन महिलाओं के हाथ में जो पैसा आता है, वह पूरे परिवार का होता है. पुरुष के हाथ के पैसे का अधिक भाग खाने-पीने जैसी चीजों पर ख़र्च होता है, जबकि महिलाएं बच्चों की शिक्षा और उनके स्वास्थ्य की भी अधिक चिंता करती हैं. लोंधे द्वारा बनाए गए विशेष प्रकार के दस्तानों की सौ फीसदी आपूर्ति विदेशों के लिए होती है. इन दस्तानों की मांग जापान एवं चीन में अधिक है. सौ फीसदी निर्यात की वजह से उन्हें बैंक से ॠण लेने में काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ा. चूंकि उनके सारे ग्राहक विदेशों में थे और दस्ताने के लिए इस्तेमाल होने वाला कच्चा माल भी वह बाहर से ही मंगाते हैं. इसी वजह से कोई भी बैंक शुरुआती दौर में उन्हें ॠण देने के लिए तैयार नहीं हुआ. इसके बावजूद उन्होंने अपनी लगन की बदौलत और साथियों की मदद से कंपनी का सालाना कारोबार अस्सी लाख रुपये तक पहुंचा दिया.


बात अगर लोंधे के जीवन की करें तो उन्होंने लंबे समय तक कुछ ग़ैर सरकारी संगठनों और एजेंसियों के साथ काम किया. सुनामी के समय जब स्थानीय लोग शहर छोड़कर भाग रहे थे तो उन्होंने अपना डेरा चेन्नई में जमाया. अ़फग़ानिस्तान से जब लोग भाग रहे थे तो वह अ़फग़ानिस्तान में रहे. कुल मिलाकर उन्होंने इन्हीं अनुभवों से विपरीत परिस्थितियों में जीने और मुस्कराने की कला सीखी है. पायोद में काम करने वाले हर शख्स को पता है कि यहां कोई बड़ा नहीं है और किसी का पद छोटा नहीं है. पायोद परिवार का सदस्य बनाने से पहले हर शख्स को यह घुट्टी घोलकर पिलाई जाती है. यहां सबको बराबरी का दर्जा हासिल है.


[I]साभारः चौथी दुनिया[/I]


http://www.dalitmat.com/index.php/dalit-enterpreneur/1007-dalit-udyamita-ka-sankalp.html